मेरे अश्क़ लाल रंग है (Mere ashq laal rang hai)





(Original poetry by @kaunquest)


मेरे अश्क़ लाल रंग है
ये आरज़ू का रंग है
सीने में बिखर रहा है जो
उस दर्पण में तेरे रंग है
वरना तो मैं बेरंग था
जाने कैसे तुझको भा गया





Mere ashq laal rang hai
Ye aarzoo ka rang hai
Seene mein bikhar raha hai jo
Us darpan mein tere rang hai
Warna to mai berang thaa
Jaane kaise tujh ko bhaa gaya...

Photo by Mathilda Khoo on Unsplash








Comments

Popular Posts