Monday, January 18, 2016

Sochta hoon

kiya kabza jaise tumne
meri hasraton pe.. mere iraadon pe..

sochta hoon..
zara sa hi sahii..
meraa bhi hai asar tum pe..

ye veham hai ke hakeekat meri..
bigaDtii jaaye yoon tabeeyat dil ki..

kaise suljaaye ye uljhan..
ke koi to suraagh mile..

parakhta rehetaa hoon tere
alfaazon ke
lifaafon ko baar baar...


किया कब्ज़ा जैसे तुम ने 
मेरी हसरतों पे.. मेरे इरादों पे 

सोचता हूँ
ज़रा सा ही सही
मेरा भी है असर तुम पे 

ये वेहम है के हकीकत मेरी
बिगड़ती जाए यूं तबीयत दिल की  

कैसे सुलझाए ये उलझन 
के कोई सुराग मिले 

परखता रहता हूँ तेरे 
अल्फ़ाज़ों के 
लिफाफों को बार बार 

kaunquest