Saturday, December 26, 2015

Raftaar-e-zindagiii

Raftaar-e-zindagii is tarah baDii..
kaaboo mein kuch nahiin, manzoor bekhudii..

Muskuraa rahii ... 
hai saamne khushi 
Aur nazar merii ... 
kahiin aur hai tiki 

Bharpoor zindagiii.. 
Phirbhi koi kamii..
Fursat mili kabhii
To bechainiyaa baDii..

रफ़्तार-इ-ज़िन्दगी इस तरह बढ़ी
काबू में कुछ नहीं, मंज़ूर बेखुदी

मुस्कुरा रही
है सामने ख़ुशी
और नज़र मेरी
कहीं और है टिकी

भरपूर ज़िंदगी
फिर भी कोई कमी
फुर्सत मिली कभी
तो बेचैनियां बढ़ी