Thursday, November 03, 2011

Mere alfaazon mein...

mere alfaazon mein to bas duniyaa daari hai
uski khaamoshiion mein bhi imaandaarii hai

isiiliye to hai mauj-zaan rishtaa  ye uskaa...meraa,
uski kirnon mein yunhi liptaa rahe andheraa meraa....


मेरे अल्फाजों में तो बस दुनियादारी है
उसकी खामोशियों में भी इमानदारी है

इसीलिए तो है मौज-ज़ान रिश्ता ये उसका.. मेरा 
उसकी किरणों में यूँही लिपटा रहे अन्धेरा मेरा.. 

- Kaunquest 




No comments: