Saturday, September 24, 2011

man mein kahiin (मन में कहीं)

something very simple, with simple words, simple thoughts! :)

man mein kahiin ik dard chupaa hai
aankh micholi kartaa rahtaa hai
kabhii aaankhon mein aake chubtaa hai
do boond aansuu churaa letaa hai

ek tamanna us aur jo kheenche
to ek tamanna kahiin aur pukaare
zyaadaa jitnii khwaahishen apnii...
khushiyaan utnii kam hotii hai

jo hai nazar mein, apnaa nahiin hai..
aur jo hai apnaa, nazar mein nahiin hai
doori jitnaa dil ko dukhaaye..
utnaa hii woh pyaar badhaaye!

मन में कहीं इक दर्दछुपा है
आँख मिचोली करता रहता है
कभी आँखों में आके चुबता है
दो बूँद आंसू चुरा लेता है

एक तमन्ना उस और जो खींचे
तो एक तमन्ना कहीं और पुकारे
ज़्यादा जितनी ख्वाहिशें अपनी
खुशियाँ उतनी कम होती है

जो है नज़र में, अपना नहीं है
और जो है अपना, नज़र में नहीं है
दूरी जितना दिल को दुखाये
उतना ही वो प्यार बढाए!

- kaunquest 

1 comment:

Parasmani said...

जो है नज़र में, अपना नहीं है
और जो है अपना, नज़र में नहीं है
दूरी जितना दिल को दुखाये
उतना ही वो प्यार बढाए!

Bahot badhiya!