Thursday, July 28, 2011

raftaar hai..

raftaar hai..
rastaa bhi..jaise betaab hai
garajtii car kii aawaaz mein koi aaghaaz hai..
musaafir dil be-qaraar hai..

jaana hai ghar
maanaa ke ghar khaali hai magar
ghar mein tera
ehsaas hai..
lagtaa hai..jaise tu paas hai!

रफ्तार है..
रास्ता भी जैसे बेताब है 
गरजती कार की आवाज़ में कोई आग़ाज़ है
मुसाफिर दिल बेक़रार है

जाना है घर 
माना के घर खाली है मगर 
घर में तेरा 
एहसास है..
लगता है.. जैसे तू पास है! 

..distances make you realize how close you really are!

2 comments:

tamanna said...

बहुत ख़ुबसुरत सोच है आपकी...आप का ब्लॉग पसंद आया..और हां, जो गीत सुने वो भी दिल को छु गए....

Kaunquest (Ajay) said...

Thank you tamanna..